आनंद के रंग,परमात्मा के संग गुरमीत सिंह

परमात्मा के रंग में रंग जाने की सार्थकता भी तभी है,जब मन के विकारों का भी…

अंतर के परिमार्जन का उत्सव…नवरात्रि. गुरमीत सिंह

नवरात्रि उपासना, व्रत,तथा अनुशासित जीवन चर्या तभी उपयोगी है,जब मां दुर्गा की असीम शांत और प्रेम…

मानसिक प्रदूषण के निराकरण से प्रकृति प्रदूषण का समाधान……गुरमीत सिंह

विकास के विभिन्न सोपानों में आदि काल से ही अमृत मंथन विभिन्न रूपों में, क्रियान्वित होता…

प्रारब्ध मार्ग पर यात्रा का आनंद……गुरमीत सिंह

कॉस्मिक इंटेलिजेंस को,प्रकट होने तथा आस्तित्व की इच्छा को पूर्ण करने की दिशा में,मानव शरीर के…

बाल दिवस _ईश्वरीय स्पंदन के प्रतिनिधित्व का अभिनंदन…..गुरमीत सिंह

शैशव अवस्था का मानस पटल,कोरी स्लेट के मानिंद होता है,जो निर्मल झरने जैसा बेफिक्र अठखेलियां करते…

बुद्धि के साथ भावनात्मक लब्धि….जीवन आनंद

स्वयं को तथा अपनी संतानों को बुद्धि की दक्षता बढ़ाने से ज्यादा,ध्यान भावनात्मक लब्धि बढ़ाने पर…